loanpandit

Readymade Garments Business Plan कैसे बनाएं?

readymade garments business plan

Check Your Eligibility​

    भारत में बहुत से लोगों को कपड़ों की शॉपिंग करना बहुत ही पसंद है। कपड़ो का बिजनेस बड़ी तेजी से बढ़ रहा है है जिसमे कई प्रकार की वेरायटी मिलने लगी है। रेडीमेड गारमेंट बिजनेस वर्तमान में एक बहुत ही मुनाफे का बिजनेस है. लोगो को विभिन जरूरतों जैसे गिफ्ट, पार्टी, इवेंट, समारोह आदि के लिए नए कपड़े खरीदने की जरुरत पड़ती है।

    गारमेंट बिजनेस में ट्रेंड और फैशन के अनुसार लगातार परिवर्तन होता रहता है इसलिए इस बिजनेस में टिके रहने के लिए हमेशा कस्टमर की डिमांड के साथ अपडेट रहना पड़ता है। इस आर्टिकल में हम आपको Readymade Garments Business शुरू करने के लिए बिजनेस प्लान कैसे बनाते है इसकी जानकारी देंगे। 

    Readymade Garments Business plan कैसे तैयार करें? 

    रेडीमेड गारमेंट की भारत में बहुत खपत है जिसकी वजह से यह इतना बड़ा मार्किट है। एक अनुमान की मुताबिक साल 2025 तक Readymade Garments Business लगभग 18 लाख करोड़ रूपये का हो जाएगा। अगर आप अपने आस-पास का निरीक्षण करते हैं तो आप देखेंगे कि कपड़ों की बहुत सारी दुकानें नए ट्रेंड के साथ बहुत ही अच्छा व्यवसाय कर रही हैं। गारमेंट बिजनेस की शुरुआत करने के लिए एक बहुत ही बेहतरीन बिजनेस प्लान की जरूरत है। अपना बिजनेस प्लान को बनाते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

    1. बिजनेस मॉडल को पहचाने

    रेडीमेड गारमेंट बिजनेस के अन्दर व्यापक संभावनाएं मौजूद है। अपना बिजनेस शुरू करने से पहले आपको यह जानना चाहिए कि आप किस तरह का गारमेंट बिजनेस करना चाहते है। इस बिजनेस में मुख्य तौर पर तीन प्रकार के बिजनेस मॉडल है जिनमे से एक का चुनाव किया जा सकता है। नीचे इन तीनों के बारे में जानकारी उपलब्ध है।

    • मैन्युफैक्चर बिजनेस मॉडल

    कपडे के बिजनेस में मैन्युफैक्चर बिजनेस करना वाकई में एक बहुत ही मुनाफे वाला बिजनेस है लेकिन Readymade Garments Business को करना सबके लिए आसान काम नहीं है। ऐसे बिजनेस को चलने के लिए आपको बहुत ही ज्यादा निवेश करने की जरुरत पड़ती है। मैन्युफैक्चर लेवल पर कपड़ों का निर्माण करने के लिए आपको एक बड़ी यूनिट, फैक्ट्री, कर्मचारी, रॉ-मेटेरिअल आदि की जरुरत होती है।

    इस मॉडल में कपड़ों की बुनाई और उनको डाई करने का काम अच्छे से होना चाहिए इसलिए कुशल कारीगरों की आवश्यकता इसमें पड़ती है। इस तरह के बिजनेस में सफल होने के लिए आपको अच्छी क्वालिटी का कपड़ा बनाना होता है साथ ही लम्बे समय तक मार्किट में बने रहना पड़ता है।

    • डिज़ाइनर बिजनेस मॉडल

    गारमेंट इंडस्ट्री में अच्छे  फैशन डिज़ाइनर की कमी है। अगर आप इस कमी को अपने लिए एक बेहतर मौका मानते है तो आप मार्किट के इस गैप को भर सकते है। इसके लिए सबसे पहले आपको एक फैशन डिजाईन का कोर्स पूरा करना होगा और मार्किट में फैशन और नए ट्रेंड से जुड़ी नॉलेज लेनी पड़ेगी। अपना खुद का बिजनेस शुरू करने से पहले आपको कुछ बड़े ब्रांड के साथ एक फैशन डिज़ाइनर के तौर पर कुछ वर्ष काम करना चाहिए फिर वहां से अनुभव प्राप्त करके इस मॉडल में अपना खुद का बिजनेस शुरू करना चाहिए।

    • गारमेंट रिटेल शॉप बिजनेस मॉडल

    गारमेंट रिटेल स्टोर खोल कर सीधे कस्टमर को प्रोडक्ट देना भी एक अच्छा बिजनेस है। आप अपने प्रोडक्ट को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से कस्टमर को बेच सकते है। अपने प्रोडक्ट को ऑफलाइन मार्किट में बेचने के लिए एक अच्छा नेटवर्क, एक अच्छा व्यवहार और अपने स्टाफ के साथ अच्छे वर्किंग रिलेशन की जरुरत है। इसके अलावा अपने प्रोडक्ट को ऑनलाइन बेचने के लिए आपके पास एक अच्छी मार्केटिंग स्किल या उसे करने के लिए एक प्रोफेशनल का होना बहुत जरुरी है।

    2. गारमेंट बिजनेस के लिए एक अच्छी लोकेशन चुने

    Location for readymade garments business

    आपके बिजनेस की अच्छी लोकेशन बहुत ही मुख्य भूमिका रखती है. ज्यादातर गारमेंट शॉप:- मॉल, कॉम्लेक्स और स्ट्रीट मार्किट जैसे भीड़ वाले इलाके में पायी जाती है जहाँ कस्टमर खरीदारी करने आते है। अगर आप अच्छी क्वालिटी के प्रोडक्ट अच्छी कीमत पर बेचते है तो आपका  रेडीमेड गारमेंट बिजनेस पॉपुलर हो सकता है। मार्किट के बारे में रिसर्च करके अपने बिजनेस के लिए ऐसी लोकेशन का चुनाव करें जहां आपकी टारगेट ऑडियंस मौजूद हो लोगों की ज्यादा भीड़, गारमेंट शॉप की कम संख्या आपके गारमेंट प्रोडक्ट की सेल बढ़ा सकते है।

    3. गारमेंट बिजनेस के लिए जरुरी लाइसेंस 

    बिजनेस के लिए लोकेशन का चुनाव करने के बाद आपको अपने बिजनेस से जुड़े जरुरी लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन करवा लेने चाहिए. आप इन लाइसेंस को लोकल अथॉरिटी और ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त कर सकते है। कुछ जरुरी लीगल डॉक्यूमेंटेशन की डिटेल नीचे मौजूद है।

    • पैन कार्ड (PAN)
    • टैक्स अकाउंट नंबर (TAN)
    • ट्रेड लाइसेंस
    • कमर्शियल प्रॉपर्टी का वैलिड क्लीयरेंस
    • प्रोफेशनल टैक्स रजिस्ट्रेशन
    • दुकान और बिजनेस का रजिस्ट्रेशन

    4. गारमेंट बिजनेस के लिए फंड्स मैनेजमेंट

    अपना Readymade Garments Business शुरू करने से पहले एक एस्टीमेट अमाउंट का मुल्यांकन करे उसके बाद इस अमाउंट के अनुसार बजट बनाए। अपनी फाइनेंशियल प्रोजेक्शन को तैयार करें और यह सुनिश्चित करें कि कितने समय बाद आपको दोबारा अपने बिजनेस में पैसा इन्वेस्ट करने की जरुरत पड़ेगी। 

    भविष्य की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए आपके पास पर्याप्त पैसा होना चाहिए। अगर किसी कारण से आपके पास बिजनेस शुरू करने के लिए फंड कम पड़ रहा है तो आप लोन के लिए OneNDF की मदद ले सकते है। गारमेंट्स बिजनेस लोन के लिए OneNDF  एक ऐसा वित्तीय प्लेटफार्म  है जो 100 से भी ज्यादा लोन प्रोवाइडर्स के साथ जुड़ा है। इस प्लेटफार्म ने कई जरूरतमंद बिजनेस को अब तक लगभग 2000 करोड़ रूपये का लोन उपलब्ध कराने में सहायता की है।

    5. गारमेंट बिजनेस में लेबर्स की हायरिंग

    Workforce mgmt readymade garments business

    Readymade Garments Business के लिए ऐसे लोगो को चुने जो आपके बिजनेस के लिए जरूरी है। हर बिजनेस के लिए ऐसे वर्किंग स्टाफ की जरुरत पड़ती है जरुरी कामों को पूरा कर सके। नीचे कुछ ऐसे वर्किंग स्टाफ की लिस्ट मौजूद है जो आप रख सकते है।  

    • टेलर और सिलाई मशीन ऑपरेटर
    • पैटर्न मेकर्स 
    • क्वालिटी कंट्रोलर्स और इंस्पेक्टर 
    • फैशन डिज़ाइनर 
    • सैंपल डेवलपर 
    • कटिंग मास्टर और हेल्पर्स 
    • फिनिशिंग और पैकिंग वर्कर्स 
    • मेंटेनेंस स्टाफ 
    • मैनेजमेंट स्टाफ  

    ये कुछ मुख्य वर्किंग स्टाफ है जिसकी जरुरत गारमेंट बिजनेस में पड़ती है । 

    6. इन्वेंटरी मैनेजमेंट 

    प्रभावी इन्वेंटरी मैनेजमेंट एक सफल गारमेंट बिजनेस की रीढ़ है। कच्चे माल से लेकर तैयार उत्पादों को ऑर्गनाइज करने के लिए ये  बहुत जरूरी है। इन्वेंट्री मैनेजमेंट यह समय पर डिलीवरी, रॉ-मटेरियल की बर्बादी से बचाता है जिससे बिजनेस में बे वजह धन का नुकसान नहीं होता।

    7. लॉजिस्टिक का प्रबंध

    logistics planning for readymade garments business

    गारमेंट बिजनेस ऑफलाइन हो या फिर ऑनलाइन इसमें लॉजिस्टिक हमेशा ही एक चुनौतीपूर्ण कार्य होता है। इस बिजनेस में आपको ट्रांसपोर्टेशन के लिए तैयार रहना होगा। लॉजिस्टिक का सही ढंग से प्रबंध करने से आपके कस्टमर को समय से अच्छा प्रोडक्ट मिलता है और वह संतुष्ट हो पाता है। अगर आप अच्छे से ट्रांसपोर्टेशन मैनेज करते है तो इससे आपको इफेक्टिव कास्ट मैनेजमेंट का फायदा मिलता है।

    8. एक प्रमुख ब्रांड बने

    आप अपने रेडीमेड गारमेंट बिजनेस का यूनिक फैक्टर पहचान कर उसके अनुसार अपने ब्रांड को आगे बढ़ाए। बिजनेस का आसान नाम चुने जिसको लोग आसानी से याद रख सके साथ ही एक अच्छा सा ब्रांड लोगो अपने बिजनेस के लिए बनवाये। यह सब जरुरी बाते आपके बिजनेस को प्रीमियम बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। गारमेंट के बिजनेस में ब्रांडिंग का महत्त्व और ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि हर कस्टमर अपने लिए बेहतर प्रोडक्ट खरीदना चाहता है।

    9. गारमेंट बिजनेस का प्रमोशन और एडवरटाइजमेंट

    किसी भी बिजनेस के लिए उसकी मार्केटिंग और प्रमोशन एक बहुत ही महत्वपूर्ण फैक्टर होता है। आप अपने बिजनेस के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से प्रमोशन कर सकते है। डिजिटल तरीके से मार्केटिंग करना आजकल बहुत कारगर साबित हो रहा है। इसमें आपको अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म और वेबसाइट के द्वारा कस्टमर तक अपने प्रोडक्ट का प्रचार करना होता है।    

    रेडीमेड गारमेंट बिजनेस की ऑनलाइन मार्केटिंग कैसे करें?

    आपने प्रोडक्ट की ऑनलाइन मार्केटिंग करने के लिए आप इन डिजिटल प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते है।

    • ब्लॉग – आपके बिजनेस को डिजिटल माध्यम से पॉपुलर करने के लिए ब्लॉग एक बहुत अच्छा साधन है इसके जरिये भी आप अपने टारगेट मार्किट को पहचान सकते है और कई तरह का मूल्यांकन वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफिक से पता कर सकते है और इसके आधार पर अपने बिजनेस की मार्केटिंग स्ट्राटेजी बना सकते है।
    • ईमेल मार्केटिंग – इस प्लेटफार्म के द्वारा आप अपने कस्टमर से सीधा बात कर सकते है और उनके प्रश्नों के उत्तर दे सकते है। कस्टमर को बेहतर सर्विस देने के लिए इसके द्वारा आप उनकी खरीदारी से सम्बन्धित समस्याओं का हल निकाल सकते है। अपने प्रोडक्ट्स से जुड़े डेली अपडेट मेल के द्वारा कस्टमर को दे सकते है।
    • सोशल मीडिया मार्केटिंग – इस तरीके को अपना कर आप अपने नए प्रोडक्ट्स की फोटो सीधे सोशल मीडिया के द्वारा अपने टारगेट कस्टमर को दिखा सकते है। कोई भी कस्टमर आपके सोशल मीडिया प्लेटफार्म के द्वारा आपसे जुड़ सकता है और आपके द्वारा दिखाए गए प्रोडक्ट को खरीद सकता है। यह प्लेटफार्म नए कस्टमर को आकर्षित करने का एक अच्छा विकल्प है।

    Conclusion

    भारत में गारमेंट शॉप बिजनेस चुनौतीपूर्ण होने के साथ-साथ एक आकर्षक बिजनेस भी है। हमने अपने आर्टिकल में readymade garments business को शुरू करने के बारे में सभी जरुरी जानकारियों को विस्तार से बताया है। बिजनेस को सफलता से चलाने के लिए सही कस्टमर का होना बहुत जरुरी है, इसके अलावा अपना बिजनेस करने के लिए आपके पास पर्याप्त पूँजी भी होना जरुरी है।

    इस बिजनेस को शुरू करने के लिए 5 से 10 लाख रूपये की आवश्यकता पड़ती है। आपके पास इतना फंड्स होनें चाहिए अगर आपको अपने बिजनेस के लिए भी फंड्स की जरुरत है तो आप OneNDF प्लेटफार्म की मदद से अपने बिजनेस के लिए अच्छे ऑफर्स के साथ लोन प्राप्त कर सकते है।

    FAQ

    1. कपडे का बिजनेस शुरू करने में कितना खर्चा आता है? 

    कपडे का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है जिसमे कम निवेश से शुरुआत करके ज्यादा मार्जिन कमाया जा सकता है। इस बिजनेस की शुरुआत आप 1.5 लाख रूपये से 2 लाख रोये में कर सकते है। एक साथ ज्यादा ऐसे लगाने से अच्छा आप इतने निवेश से ही बिजनेस की शुरुआत करें। समय के साथ जैसे आपका बिजनेस बढ़ेगा आप और निवेश के बारे में सोच सकते है।

    2. कपडे के बिजनेस में कितना मुनाफा है?

    भारत में रेडीमेड गारमेंट बिजनेस का एक व्यापक बाजार है जिसमे बहुत संभावनाएं है. इस बिजनेस में आपको 30-60% का मार्जिन मिलता है। अगर आप मार्किट के बारे में अच्छी समझ रखते है तो अपने कुछ प्रोडक्ट्स को बेचकर आप 50% तक का भी मार्जिन कमा सकते है।

    3. भारत में गारमेंट ऑनलाइन कैसे बेचे?

    अपने गारमेंट को ऑनलाइन बेचने के लिए अपने कपड़ो का प्रकार चुने उसके बाद अपनी वेबसाइट पर उनकी इन्वेंट्री तैयार करें। ग्राहकों के लिए प्रोडक्ट की जानकारी और उसकी कीमत का निर्धारण करें। सोशल मीडिया के द्वारा अपने प्रोडक्ट का प्रचार करें।

    4. भारत में सबसे बड़ा कपड़ा निर्यातक कौन है?

    भारत में रेडीमेड गारमेंट बिजनेस के कई कपडा निर्यातक है जिनकी जानकारी नीचे मौजूद है:

    • अरविंद लिमिटेड
    • रेमंड लिमिटेड
    • बॉम्बे डाइंग
    • आलोक इंडस्ट्रीज लि
    • वफादार समूह
    • सतलुज टेक्सटाइल्स

    Last Updated on 6 months

    Check Your Eligibility​

      Vishal Kumar

      Vishal is a content writer who writes articles on various topics and is currently working as a writer on loan, banking, and business related financial topics on LOANPANDIT website. Vishal works to explain financial concepts to the readers in a very simple way through his attractive and informative articles. Their goal is to empower people to make financial decisions.

      Related Posts

      Latest Stories

      7 Days Loan App List Real or Fake

      Real or Fake 7 Days Loan App List

      Dive into the world of 7 Days Loan Apps – uncover real from fake, explore benefits, approved apps, and safeguard yourself with insightful tips. Make informed financial choices!

      You cannot copy content of this page

      Take The First step Towards Your Goals: Apply for a Personal Loan

      ✅Minimum Documents    ✅No Collateral     ✅Instant Disbursal